loading...

पीएम नरेन्द्र मोदी की नो वीआईपी मुहीम वाइरल,केदारनाथ धाम में आम नागरिक की तरह रसीद कटवाकर किया भगवान महादेव का रुद्राभिषेक

देश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार (3 मई) को जब केदारनाथ पूजा अर्चना के लिए पहुंचे, तो उन्होंने वीआईपी कल्चर को दूर तक नहीं अपनाया। प्रधानमंत्री ने रूद्राभिषेक के लिए जरूरी रसीद को नियमानुसार कटवाया और भुगतान शुल्क के रुप में 6500 रुपये अदा किये। प्रधानमंत्री ने केदारनाथ मंदिर समिति के नियमों का पालन किया और पूजा की।

प्रधानमंत्री द्वारा कटवाये गये रसीद की तस्वीरें सोशल मीडिया पर आई हैं। वरिष्ठ पत्रकार ने इस तस्वीर को डाल कर ट्वीट किया है कि, ‘ पीएम ने नो वीआईपी मुहिम को बढ़ावा दिया है, मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा रूद्राभिषेक पूजा के लिए अपने जेब से 6500 रुपया देने के उनके इस कदम का सम्मान करता हूं। बता दें कि केदारनाथ धाम में रुद्राभिषेक पूजा के लिए 6500 रुपये देने पड़ते हैं, इस रकम में पांच लोग भगवान महादेव का रुद्राभिषेक कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री ने इस के बार मन की बात कार्यक्रम में वीआईपी कल्चर को खत्म करने की बात कही थी। उन्होंने वीआईपी की जगह ईपीआई कल्चर यानी की ‘एवरी पर्सन इज इम्पोर्टेंट हर शख्स महत्वपूर्ण है’ शुरू करने पर जोर दिया था। इससे पहले केन्द्र सरकार ने देश में लाल बत्ती सिस्टम भी खत्म कर दिया है।

सोशल मीडिया पर लोगों ने पीएम के इस कदम की तारीफ की है। एक शख्स ने लिखा है कि जो नियम आप दूसरों को पालन करने कहते हैं उसका पालन अगर खुद भी करें तो दुनिया बदल सकती है। वहीं एक शख्स ने लिखा है कि केदारनाथ धाम में रसीद कटवाने की जगह कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देना चाहिए।

Loading...

प्रधानमंत्री 3 मई को भगवान शंकर की पूजा के लिए केदारधाम पहुंचे थे। यहां एक और घटना का जिक्र है जब पीएम में अपना काम खुद कर मिसाल पेश की थी। पीएम जब मंदिर परिसर में अंदर जा रहे थे तो उस समय उन्हें अपना जूता उतारना था, जब वे जूता उतारने लगे उसी वक्त एक शख्स ने जूता खोलने में मोदी को मदद की पेशकश की, लेकिन पीएम ने विनम्रता से मना कर दिया और अपने जूते खुद उतारे।

You May Like These Too!
loading...
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...