loading...

EVM से छेड़छाड़ पर EC ने स्वीकार की केजरीवाल की चुनौती,कहा – साबित करें गड़बड़ी या चुपचाप मान जाए हार 

देश

नई दिल्ली : ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़ के लगातार आरोपों के बाद भी चुनाव आयोग यह मानने को राजी नहीं है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में ऐसा कुछ हुआ है. इतना ही नहीं, चुनाव आयोग ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की उस चुनौती को भी स्वीकार कर लिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि हमें 72 घंटे के लिए ईवीएम दे दो, बता देंगे ईवीएम कैसे टेंपर्ड की जाती है.

ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़ के लगातार आरोपों के बाद भी चुनाव आयोग यह मानने को राजी नहीं है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में ऐसा कुछ हुआ है. इतना ही नहीं, चुनाव आयोग ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की उस चुनौती को भी स्वीकार कर लिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि हमें 72 घंटे के लिए ईवीएम दे दो, बता देंगे ईवीएम कैसे टेंपर्ड की जाती है.

और पढ़ें: दिल्ली के सीएम केजरीवाल के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी -असम पुलिस कभी भी कर सकती है गिरफ़्तार।

चुनाव आयोग ने कहा कि हमने डेमो (इवीए से छेड़छाड़) के लिए टेक्नोक्रेट, वैज्ञानिक और राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों को बुलाया है. मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी आमंत्रित हैं. चुनाव आयोग ने कहा कि हमने 2009 में भी उन लोगों को चुनौती दी थी कि जो मशीन में गड़बड़ी या उससे छेड़छाड़ होने का आरोप लगा रहे थे, लेकिन वे खाली हाथ लौट गए थे.

Loading...

हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ये चुनौती दी थी की उन्हें 72 घंटो के लिए ईवीएम मशीन दे दी जाए और वह बता देगें कि किस तरह से मशीन में छेड़छाड़ की जा सकती है. इसी का जवाब देने के लिए चुनाव आयोग ने यह कड़ा फैसला किया है.

You May Like These Too!
loading...

Source: Zee News

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...