loading...

पढ़ लिख कर गद्दारी करने से अच्छा है अनपढ़ रह कर देशभक्त बने और देश के लिए खेलकर देश का नाम रोशन करें -बबीता फोगाट

indian army देश पाकिस्तान

ऐसा लगता है हमारे देश में अभिव्यक्ति की आजादी केवल देश-समाज ,बहुसंख्यक आवादी के खिलाफ बयान देने वालों को ही मिली हुई है ,अगर इन लोगों को कोई जवाब देता है तो उसे असहिष्णु करार दिया जाता है

सेक्युलर बुद्धिजीवी और बामपंथी देशद्रोह में यह दिखाने की कोशिश करते हैं कि हम बड़े विचार रखते है,और प्रगतिशील है, दिलचस्प बात यह भी है कि ,मीडिया का इनको जबरदस्त समर्थन प्राप्त है।

भारत के दुश्मन देश का समर्थन करते हुए खुद कारगिल के शहीद मंदीप सिंह कौन की बेटी बताने वाली गुरु मेहर कोर अपने पिता की शहादत का मजाक उड़ाते हुए कहती हैकी, “उनके पिता पाकिस्तानी नहीं ,युद्ध ने मारा है “इस पर चारों तरफ से तीखी प्रतिक्रिया मिल रही है ,गुरमेहर समर्थन करने वालों को पढ़ा लिखा और गुरमेहर का विरोध करने वालों को अनपढ़ साबित किया जा रहा है ।

इस पर दंगल गर्ल बबीता फोगाट ने गुरमैहर कौर को आड़े हाथों लेते हुए ट्वीट पर लिखा है कि “जो अपने देश के हीत में नहीं बोल सकती उसके हक में बोलना ठीक है क्या? उन्होंने कहा है कि इस तरह एक लड़की को रेप की धमकी देना गलत बात है मैं इसकी निंदा करती हूं, लेकिन मैं अपने देश के खिलाफ एक शब्द नहीं सुन सकती ,उन्होंने कहा गुर मेहर ने देश हित में कुछ नहीं लिखा ,उन्होंने गुरमेहर को सुझाव दिया कि वह देश के हित को देखते हुए ही कुछ लिखें या फिर बोलें,

Loading...

बबीता फोगाट ने खुद को अनपढ़ बताने वाली एक ट्वीट पर भी कहा कि “मैं तो ज्यादा पढ़ी लिखी ना होने के बाद भी देश का नाम रोशन करने में लगी हूं ,लेकिन गुरमेहर जैसे पढ़े लिखे अनपढ़ हैं ।

You May Like These Too!
loading...
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...