loading...

घाटी में रोकी गई पूजा तो बैन करवाई जाएगी नमाज़ भी।महाशिवरात्रि पर कश्मीरी पंडितों को सरकार का संरक्षण।

देश पर्सनल लो पाकिस्तान भारत मोदी

पिछले साल कश्मीर में हिजबुल के आतंकी बुरहान वाणी के सेना द्वारा एंकाउंटर के बाद माहौल काफी अशांत चल रहा है,वहाँ के अलगाव वादी नेता लगतार सेना पर पत्थरवाजी करा रहे थे ,पत्थर वाजों ने अमरनाथ यात्रा को भी अपना निशाना बनाया था,जिसकी बजह से अमर नाथ यात्रा को रोकना पड़ा था।

कश्मीर में हालात अभी भी ठीक नहीं चल रहे है ,हर शुक्रवार को वहा कश्मीर बन्द बुलाकर सेना पर पत्थर वाजी और पाक,isis के झंडे दिखाए जाते है, इस बात हिन्दुओ का माह पर्व महाशिवरात्रि 24 फरबरी शुक्रवार को बी पड रही है इस बजह से कश्मीरी पंडितों को डर था कि किस तरह महाशिवरात्रि मना पाएंगे।

लेकिन एक अच्छी खबर राही हे इस बार माह शिवरात्रि पर कश्मीरी पंडित पूजा कर सकेंगे,इस बार अलगाववादिगों ने घाटी बन्द को रद्द कर दिया है,कश्मीरी पंडितों को राहत भरी खबर देते हुए अलगाववादियों ने इस शुक्रवार को होने वाले बंद के ऐलान को वापस ले लिया है,

कश्मीरी पंडितों को राहत भरी खबर देते हुए अलगाववादियों ने इस शुक्रवार को होने वाले बंद के ऐलान को वापस ले लिया है। अलगाववादियों ने यह फैसला इसलिए किया है कि इस बार शिवरात्रि का त्योहार शुक्रवार को पड़ रहा है।

Loading...

अलगाववादी कैंप के एक प्रवक्ता के अनुसार यह फैसला इसलिए लिया गया है ताकि हिंदू समुदाय बिना किसी बाधा के शिवरात्रि का त्योहार मना सके।जबकि असलियत ये है कि मोदी सरकार ने उनके बंद के एलान के बाद उनको कड़ा सन्देश भेजा था कि अगर शिवरात्रि को कुछ भी किया तो हाफिज जैसा हाल कर देंगे।अलगावादियों ने कहा है कि कश्मीरी पंडित शिवरात्रि मानते हैं इसलिए उन्हें दिक्कत ना हो हम बंद वापिस लेते हैं।

You May Like These Too!
loading...

राज्य सरकार का दबाब फिर मोदी सरकार का आदेश जसकी वजह से इन अलगवादियों को घुटनों पर ला कर खड़ा कर दिया है,जो लोग बोलते थे बीजेपी ने जम्मू कश्मीर में गठबंधन से सरकार क्यों बनाई ये तमाचा है उन सबके मुँह पे।कश्मीरी पंडितो में इस बात की काफी खुशी है इस बार वो अपने त्यौहार चेन से मना सकेंगे,जिसके न मानाने पर उनको हमेसा मलाल रहता।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...