loading...

सेना हेड्क्वॉर्टर का जवानों को आदेश-“अब लाठियाँ रखो और कश्मीरी ग़द्दारों के लिए राइफ़ल उठा लो”

indian army देश पाकिस्तान

सेना को मिल चूका है खुला आदेश। अगर अब आंतक विरोधी आपरेशन में स्थानीय नागरिक खलल डाले आंतकियों की मदद के लिए तो अब सेना लाठी से नहीं बंदूक से बात करेगी।और सही बात है जब दो चार लाशें गिरेगी तो खुद ये पथरबाज भाग खड़े होंगे और दुवारा आंतकियों की मदद करने का नहीं सोचेंगे।

मेल टुडे ने अपनी रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से साथ में ही लिखा है कि पिछले कुछ महीनों से आतंकरोधी ऑपरेशन्स में बाधा डालने के लिए महिलाओं को आगे किया जा रहा है। पहले महिलाएं सेना पर पत्थरबाजी करती हैं, ताकि आतंकियों को भागने में मदद मिल सके।

सूत्रों ने बताया कि ऐसी ही स्थिति बनी रही तो अब सेना ने साफ कर दिया है की हम लोग लिंग के आधार पर बिना भेदभाद किए उनके साथ भी सख्ती से पेश आएंगे। अभी तक एनकाउंटर जोन में घुसने वाली महिलाओं को रोकने के लिए सेना के जवान लाठियों का इस्तेमाल करते रहे हैं, लेकिन हेडक्वार्टर ने सेना के जवानों से कहा कि अब लाठियों को रख दो, राइफल उठा लो।

बता दें, जनरल रावत ने कहा था, ‘हम स्थानीय लोगों से अपील करते हैं कि अगर किसी ने हथियार उठा लिए हैं और वह स्थानीय लड़के हैं। अगर वे आतंकी गतिविधियों में लिप्ट रहना चाहते हैं, आईएसआईएस और पाकिस्तान के झंडे लहराते हैं तो हम लोग उन्हें राष्ट्र विरोधी तत्व मानेंगे और उनके खिलाफ एक्शन लेंगे।’आपको बता दें सबसे पहले कांग्रेस वो पार्टी थी जिसने सेना अध्यक्ष के बयान का विरोध किया था।

Loading...

पर केंद्र में अभी नरेन्द्र मोदी की सरकार है, और नरेन्द्र मोदी कोई फैसला करते है तो वो पीछे नहीं हटते है
कांग्रेस और अन्य सेक्युलर चाहे जितना विरोध कर लें
अब हमारी सेना नहीं रुकने वाली और ये चीज देश के लिए बेहद ही फायदेमंद है

You May Like These Too!
loading...
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...