loading...

लद गए पत्थरबाजों के दिन:सरकार ने खुल्लेआम किया सेना के कश्मीरी आतंकि समर्थकों को गोली मारने का समर्थन

indian army आतंकवाद देश पाकिस्तान मोदी

नरेंद्र मोदी सरकार ने पहले तो अलगाववादियों के बुरे दिनों को शुरुवात की। पिछली सरकार के वक़्त अलगाववादियों की पहुँच तो प्रधानमंत्री के घर तक थी, मोदी जबसे आये है कश्मीर मुद्दे पर इन अलगाववादियों से कोई बात नहीं की जाती न इनकी कोई राय ली जाती है।

मोदी सरकार ने सेना को पाकिस्तान और जिहादी आतंकीयों पर भी कारवाही की पूरी छूट दे दी पर सेना की कश्मीर में एक और बड़ी समस्या थी, और वो कोई और नहीं बल्कि कश्मीरी जिहादी मुस्लिम जनता ही थी
जो आतंक की समर्थक है।

ये जिहादी अक्सर सेना पर पत्थर बरसाते थे, आतंकी के भागने के लिए रास्ते बनाते थे, पैलेट गन चलाओ तो इनके सेक्युलर समर्थक चींखने लग जाते थे।जब भी आतंकी से सेना की मुठभेड़ होती थी ये जिहादी आतंकी के लिए सेना पर हमला करते थे।पर अब मोदी सरकार ने भी सेना की बात सुन ली है और अब सेना को इस जिहादी जनता पर भी कारवाही की छूट दे दी है।

थलसेना प्रमुख ने साफ़ कर दिया है कि
अब सेना के खिलाफ जिहादी गतिविधि बर्दास्त नहीं की जायेगी।जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि, आतंकी और सेना के बीच लड़ाई के बीच कोई आया, और किसी ने सेना पर पत्थर बरसाए तो सेना ऐसे लोगों को आतंकी ही मानेगी और उनपर भी वही कारवाही करेगी जो आतंकीयों पर की जाती है।

Loading...

भैया जिस देश में नरेंद्र मोदी जैसा PM हो उस देश की सेना का मनोबल तो ऐसे ही बढ़ता ही रहेगा।पिछली सरकारों ने हमारी सेना को कमजोर कर रखा था, पर मोदी ने हमारी सेना की बात सुनी वोटबैंक की फ़िक्र मोदी सरकार को नहीं।

You May Like These Too!
loading...
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...