आप दिल्ली देश पॉलिटिक्स

केजरीवाल की मानसिक हालत देख दुःख होता है,उसके बकवास पत्र बिना पढ़े मेरे कूड़ेदान में जाते थे।Video ने मचाया तहलका

Advertisement

सवाल है की हम सब केजरीवाल को कैसे जानते हैं। मैं बताता हूँ, केजरीवाल भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम में अन्ना हज़ारे जैसे मेहनती देशभक्त के कंधों पर चढ़कर पहले से सड़ चुकी भारतीय राजनीति को ओर गंदा करने के लिए भारतीय राजनीति में आए।

आज ख़ुद मुझे और मेरे जैसे लाखों लोगों को दुःख होता है की हमने अपने सब काम छोड़कर जिस मुहिम को आगे बढ़ाया था उसे एक ठग ने इस क़दर पैसे और सत्ता के लिए बेच दिया। आए दिन देश के प्रधानमंत्री का अपमान करना जिससे पूरा देश विदेशीयों की नज़र में मज़ाक़ का पात्र बनता है, बिना सबूत पहले आरोप लगाकर मीडिया में सनसनी पैदा करना फिर चोरी छुपे माफ़ी माँग लेना आदत बन गई है केजरीवाल की।

Advertisement

जी हाँ सोशल मीडिया पर दिल्ली के पूर्व एलजी नजीब जंग का टाइम्ज़ नाउ को दिया गया एक साक्षात्कार वाइरल हो रहा है जिसने केजरीवाल को हँसी का पात्र बना कर रख दिया है। इसमें पूर्व एलजी ने कहा है कि केजरीवाल की मानसिक स्थिति पर दुःख होता है। उन्होंने कहा केजरीवाल हमेशा बोलते हैं की दिल्ली मेरे पास 67 विधायक हैं और मुझे सर्वशक्तिमान होना चाहिए, आपके माध्यम से मैं बताना चाहता हूँ की दिल्ली के 67 विधायकों के अलावा भी 8 सांसद जिनका अधिकार क्षेत्र और ताक़त और जिम्मेदारियाँ केजरीवाल के सभी विधायकों से कहीं ज़्यादा है इसके अलावा तीन मेअर और नागलपलिकाएँ हैं जो केजरीवाल के अधिकार में हैं ही नहीं पर अच्छा काम कर रहे हैं। केजरीवाल के पस जो अधिकार हैं वो इनमें कुछ करके दिखाएँ ना की दूसरो के काम में हस्त्त्क्शेप करें।

Advertisement

आगे पूछे जाने पर की केजरीवाल जब आपको कहते हैं की आप मोदी के चमचे हो तो उस पर आप जवाब क्यूँ नहीं देते तो जंग बोले ऐसे जहिल सवालों का जवाब देने का तुक ही नहीं बनता। मैं जवाब क्यूँ दूँ? केजरीवाल की मानसिक स्थिति पर मुझे बेहद दुःख है। उनके ऐसे पत्र केवल और केवल मेरे कूड़ेदान की शोभा बढ़ते हैं। ऐसे किसी भी ख़त के आते ही बिना पढ़े मैं उन्हें कूदे में फ़िकवा देता हूँ जवाब देने का तो सवाल हि नहीं उठता।

Advertisement

उन्होंने आगे कहा की एक मुख्यमंत्री का प्रधानमंत्री को या एलजी को या किसी भी सरकारी तंत्र के व्यक्ति को लिखी चिट्ठी संजो कर रखने वाला पवित्र दस्त्वेज होती है जो भविष्य की पीढ़ियों के लिए उदाहरण होती है परंतु इस तरह के पत्र पढ़कर मुझे ग्लानि का अनुभव ज़्यादा होता है।

देखें विडीओ:

https://youtu.be/SrL28hOVHqo

वैसे देखा जाए तो आज ज़्यादातर दिल्लीवालों को भी अपने उस फ़ैसले पर ग्लानि ही अनुभव होती होगी जिसने हमें सब जगह मज़ाक़ बनवा दिय और दिल्ली को कूड़े का ढेर।

Follow Author
You May Like These Too!
loading...

Comments

comments

Loading...