loading...

पहले 3 लाख सैनिक निकले अब शेयर बाजार ठप्प,चीनी सामान का बहिष्कार बना रहा है चीन को कमज़ोर,मोदीनीति का कमाल

दुनिया देश मोदी

भारत में लगातार चीनी सामान अ बहिस्कार हो रहा है। जिसके चलते चाइना की करेंसी पर पूरी तरह से सकद मंडरा रहा है। चाइना की करेंसी युआन पिछले 6 सालों में अपने निम्न स्तर पर पहुँच गयी है। इसका बुरा प्रभाव सीधे चाइना की मार्केट पर पड़ा है। जिससे चीन को बहुत बड़ा झटका लगा है।

चीन में इस कारण सेन्ट्रल बैंक, पीपल्स बैंक ऑफ़ चाइना ने ब्रिटेन जनमत संग्रह के बाद अपने देश की करेंसी युआन को डीवैल्यूएड किया गया। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले युआन के रेफरेंस रेट में लगभग 1 प्रतिशत की कमी की गयी है।

इस कटौती के युआन डॉलर की तुलना में निचले स्तर ओअर पहुँच गया है जो की लगभग साढ़े पाँच वर्ष के बाद ऐसा देखने को मिला है। अगस्त माह के बाद युआन के रेफरेंस रेट में आधिकारिक स्तर ओअर कटौती हो गयी है।

चीनी मुद्रा डॉलर के मुकाबले कमजोर हो गया है। मंदी का असर साफ़ दिख रहा है। पीपल्स बैंक और यायना ने युआन की विनिमय दर डॉलर की तुलना में करीब 0.91 प्रतिशत से कम गयी और 6.63 युआन डॉलर तक पहुँच गयी है।

Loading...

पिछले साल डिवैल्यूएशन होने बाद इस तरह की गिरावट को बड़ी गिरावट समझा जा रहा है। इस मामले में चिंता व्यक्त करते हुवे अधिशासी बैंक और पीपल्स, बैंक ऑफ़ चाइना के गवर्नर ने का कि युआन का लचीला होना बेहद जरुरी है।

You May Like These Too!
loading...

आपको बता दे कि भारत में लगातार चाइनीज़ उत्पादों का बहिस्कार जोरो शोरों पर चल रहा है। सोसिअल मीडिया हो या व्यक्तिगत तौर पर सब चीनी सामान का बहिष्कार करने की बात कर रहे हैं। इस हिसाब से देखा जाए तो आने वाले समय में चीन बाजार में भारी गिरावट आसकती है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...