loading...

ऐसे ही मोदी ने नहीं ललकारा,अभेद्य कर दी गई है देश की सुरक्षा। चीन हमला करे तो बर्बाद कर दिया जायेगा

Uncategorized

नई दिल्ली। आए दिन हम सुनते हैं, चीन और पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आने का नाम नहीं ले रहे हैं। एलओसी पर लगातार सीजफायर तोड़ने वाली पाकिस्तानी सेना अब भारतीय जवानों पर बड़े हमले की तैयारी में है। इसके इनपुट्स भारतीय सेना को भी मिले हैं।

एक ओर पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ भारत के साथ शांति वार्ता की बात कर रहे हैं और दूसरी ओर पाकिस्तानी सेना भारत पर हमले के लिए एलओसी पर बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) को तैनात करने की कोशिश में है। बीएटी वही टुकड़ी है जो जनवरी 2012 में दो भारतीय जवानों के सिर काट कर अपने साथ ले गई थी। इसके बाद इसी टीम ने अगस्त में पुंछ सेक्टर में पांच भारतीय जवानों की हत्या कर दी थी।

पुंछ के भीमभेर गली में 120 इनफैन्ट्री ब्रिगेड के ब्रिगेडियर कमांडर ए सेनगुप्ता ने एक बारपत्रकारों को बताया था कि पाक सेना रोज सीजफायर का उल्लंघन कर रही है और मोर्टार-गोलियों से भारतीय पोस्ट और सीमावर्ती गांवों पर हमले कर रही है। उनका कहना था कि इस गोलीबारी का मकसद आतंकियों को भारतीय सीमा में घुसपैठ करने में मदद करना है।

भारतीय सेना किसी भी हमले का जवाब देने के लिए पूरी तरह से तैयार है। अगर किसी सूरत में बीएटी या पाकिस्तानी सेना ने भारत पर हमला किया तो पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत की थल सेना, वायु सेना और जल सेना तीनों तैयार है। इन तीनों सेनाओं के पास अत्याधुनिक हथियार हैं तो एक बटन दबाते ही पाकिस्तान को सबक सिखा सकते हैं। आइए जानते हैं भारत के पास ऐसे कौन-कौन से हथियार हैं

Loading...

जिनसे पाकिस्तान भी खौफ खाता है-

You May Like These Too!
loading...

तीन मिनट में इस्लामाबाद को खाक कर सकता है ब्रह्मोस

हिमालय की चोटियों के पार आंख दिखाता चीन हो या कश्मीर की सीमा पर जब-तब गोलियों की बौछार करने वाला पाकिस्तान, भारतीय सेना हमेशा दुश्मनों की नापाक हरकतों से निपटने को तैयार रहती है। जंग में दुश्मनों के सैन्य अड्डों, महत्वपूर्ण ठिकानों या फिर पूरे इलाके को खाक में मिलाने के लिए सेना मिसाइलों का इस्तेमाल करती है।

दुश्मनों के ठिकानों को नष्ट करने में मिसाइलों को महारत हासिल होती है। ब्रह्मोस, पृथ्वी और अग्नी जैसे मिलाइलों के कारण दुश्मन देश भारतीय सेना की ताकत को चुनौती देने से पहले दस बार सोचते हैं। राजस्थान के पोखरण फायरिंग रेंज में पिछले सोमवार को ब्रह्मोस के आधुनिक संस्करण का परीक्षण किया गया। इस मिसाइल से सेना जमीन के अंदर बने बंकरों को भी नष्ट कर सकेगी।

ब्रह्मोस को दुनिया की सबसे ताकतवर क्रूज मिसाइलों में गिना जाता है। यह मिसाइल तीन हजार किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से दुश्मनों पर हमला करती है। वैज्ञानिक अब ब्रह्मोस 2 पर काम कर रहे हैं, इसकी स्पीड 5300 किलोमीटर प्रतिघंटे से भी अधिक होगी। इस रफ्तार से पाक पर हमला करने पर ब्रह्मोस करीब 3 मिनट में पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में तबाही ला सकता है। इसकी सबसे बड़ी खासियत रडार की नजर में नहीं आना है, इससे यह दुश्मन को संभलने का मौका नहीं देता है और न ही कोई और देश उसे बचा सकता है।

दुश्मनों पर मौत बन गिरती है पृथ्वी मिसाइल

पृथ्वी भारत की जमीन से जमीन पर कम दूरी तक मार करने वाली प्रमुख मिसाइल है। 350 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली यह मिसाइल अपने साथ 1,000 किलोग्राम विस्फोटक ले जाती है। इतने विस्फोटक से साथ जब पृथ्वी दुश्मन के ठिकाने पर गिरती है तो वहां सिर्फ तबाही ही दिखती है। इस मिसाइल को सीमा पर आसानी से ट्रकों पर बने लॉचिंग पैड से साथ तैनात किया जा सकता है।

परमाणु बम भी गिरा सकती है ये

पृथ्वी एक बैलिस्टिक मिसाइल है जो अपने साथ परमाणु बम भी ले जा सकती है। इसे नौ सेना के जहाजों से भी दागा जा सकता है। 1994 से यह मिसाइल भारतीय सेना को अपनी सेवाएं दे रही है। इसे थल सेना, वायुसेना और नौ सेना तीनों इस्तेमाल करती है।

हवा में दुश्मनों का शिकार करती है आकाश मिसाइल

जमीन से हवा में मार करने वाली इस मिसाइल को महत्वपूर्ण जगहों की सुरक्षा में तैनात किया जाता है। हवाई अड्डे, सेना के हथियार जमा करने वाले भंडार या फिर सैन्य मुख्यालय जैसी जगहों पर जंग के समय दुश्मन के लड़ाकू विमान हमला करते हैं। आकाश मिसाइल का इस्तेमाल इस तरह के किसी भी हमले को रोकने और दुश्मन के विमानों को नष्ट करने के लिए किया जाता है। इस मिसाइल को टैंकों से भी दागा जा सकता है, जिससे टैंक लड़ाकू विमानों और हेलीकॉप्टरों से होने वाले हमलों से भी निपट सकते हैं।

नाकाम कर सकती है हमले को

आकाश मिसाइल हवा में 18 किलोमीटर की ऊंचाई और 35 किलोमीटर की दूरी तक मार करती है। यह मिसाइल दुश्मनों के विमानों, हेलिकॉप्टरों और मिसाइलों को नष्ट कर सकती है। एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम के लिए भी वैज्ञानिक इसकी टेस्टिंग कर रहे हैं। इस सिस्टम में शामिल होने पर आकाश भारत की ओर बढ़ते दुश्मन के मिसाइल को हवा में ही नष्ट कर देगी।

अग्नी -1

परमाणु बम दागने की क्षमता रखने वाली अग्नी-1 मिसाइल 700 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकती है। जमीन से जमीन पर मार करने वाली यह मिसाइल ठोस इंधन से चलती है। 12 टन वजनी यह 15 मिटर लम्बी है और अपने साथ एक हजार किलोग्राम विस्फोटक ले जा सकती है। मोटाई में पतली पर, मार में पाक के अनुरूप है ये ।

अग्नी- 2

2 हजार किलोमीटर तक मार करने वाले इस मिसाइल से भारत पाकिस्तान के किसी भी हिस्से तक पहुंच सकता है। 17 टन वजनी यह मिसाइल अपने साथ एक हजार किलोग्राम विस्फोटक या परमाणु बम ले जा सकती है। यह मिसाइल अपने टारगेट तक दो चरणों में ठोस इंधन की दम पर पहुंचती है। इसके जवाब के लिए पाक के पास भी मिसाइल हैं ।

अग्नी 2 से धांसू है 3

हमारी 3 हजार किलोमीटर तक मार करने वाली अग्नी 3 मिसाइल चीन से लेकर ईरान तक पहुंच सकती है। 15000 किलोग्राम विस्फोटकों से साथ यह मिसाइल 500 किलोमीटर की ऊंचाई पर उड़ान भरते हुए दुश्मन देश पर हमला करती है। ये अग्नि 1 के मुकाबले ढार्इ गुना ज्यादा ताकतवर है,

अग्नी 4

यह मिसाइल ढार्इ से तीन हजार किलोमीटर तक मार कर सकती है। परमाणु बम के साथ दो हजार किलोमीटर तक मार करने की क्षमता भारत को एक शक्तिशाली देश के रूप में स्थापित करती है। माना जाता है कि ये अग्नि 2 का नया संस्करण भी हो सकता है, इसमें डिजायन चमकदार है ।

भारत का सबसे ताकतवर मिसायल अग्नी 5

जी हां, सतह से सतह पर मार करने वाली यह मिसाइल कई हजार किलोमीटर तक पहुंच सकती है। परमाणु बम लेकर चलने वाले इस मिसाइल से भारत समूचे चीन से लेकर यूरोप तक हमला कर सकता है मतलब आधी दुनिया तक हमारे बम गिरा सकती है ये । 17 मीटर लम्बी यह मिसाइल 50 टन वजनी है और अपने लक्ष्य तक तीन चरणों में पहुंचती है। इसका पहला परीक्षण 19 अप्रैल, 2012 में किया गया था

सुखोई 30 MKI

इसके अलावा भारत के पास सुखोई 30 MKI भी है जो दुनिया के किसी भी हिस्से पर हमला कर उसे तबाह करने की ताकत रखता है

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Jagruk Indian के फेसबुक पेज को लाइक करें

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.